होली के दिन करे ये उपाय तो मिलेंगे मनचाहे परिणाम

होली रंगों का त्यौहार है| भारतीय संस्कृति में हर त्यौहार का अपने एक महत्वपूर्ण स्थान होता है| होली बसंत ऋतू में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय त्यौहार है| होलिका दहन की रात्रि का महत्त्व हमारे शास्त्रों में 4 विशेष रात्रियो में से एक बताया गया है, इस रात्रि को “अहोरात्रि ” कहते है| यह रात तंत्र साधना एवं लक्ष्मी प्राप्ति के साथ खुद पर किये गए तंत्र मन्त्र के प्रतिरक्षण हेतु सबसे उपयुक्त मानी गई है| तंत्र शास्त्र के अनुसार होली के दिन कुछ खास उपाय करने से मनचाहा काम हो जाता है|

होली के दिन करे ये खास उपाय

1. अगर परिवार में कोई लंबे समय से बीमार हो तो होली की रात में सफेद कपड़े में 11 गोमती चक्र, नागकेसर के 21 जोड़े तथा 11 धनकारक कौड़ियां बांधकर कपड़े पर हरसिंगार तथा चन्दन का इत्र लगाकर रोगी पर से सात बार उतारकर किसी शिव मन्दिर में अर्पित करें। व्यक्ति स्वस्थ होने लगेगा। यदि बीमारी गंभीर हो, तो यह शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार से आरंभ कर लगातार 7 सोमवार तक किया जा सकता है|

2. होली के दिन जिस दिन रंग खेलते है उस दिन सुबह स्नान के बाद लाल गुलाल लेकर उसे सबसे पहले घर के मंदिर में देवी देवताओं की मूर्ति / चित्र पर लगाएं फिर उस गुलाल के खुले पैकेट में एक चांदी का एक सिक्का रखकर उसे नए लाल कपडे में कलावा से बांधकर अपनी तिजोरी में रखें, धन लाभ होगा और धन रुकने भी लगेगा|

3. होली वाले दिन पूरे दिन अपनी जेब में किसी काले रुमाल या काले कपड़े में काले तिल बांधकर रखें और रात को उसे जलती हुई होलिका में डाल दें। इससे यदि पहले से भी किसी ने कोई टोटका किया होगा तो वह भी समाप्त हो जाएगा।

4. यदि पति पत्नी में आपस में अनबन रहती है तो होली के दिन 5-5 रत्ती के 5 मोतियों का ब्रेसलेट पहनें, दामपत्य जीवन में मधुरता आ जाएगी।

5. होली पर अपने घर में आने वाले सभी मेहमानो को कुछ ना कुछ अवश्य ही खिला कर वापस भेजें, इससे भाग्य प्रबल होता है एवं घर में स्थाई लक्ष्मी का वास होता है।

6. होलिका दहन के दिन घर के मुखिया को होलिका में घी में भिगोई हुई दो लौंग, एक बताशा और एक पान का पत्ता भी अवश्य चढ़ाना चाहिए। तत्पश्चात होली की 3 परिक्रमा करते हुए होली में सूखे नारियल की आहुति देनी चाहिए।. इससे ना केवल सभी कष्ट दूर होते हैं वरन घर में सुख-सम्रद्धि भी बढ़ती है ।

7. होली की रात में चंद्रोदय होने के बाद अपने घर की छत पर या खुली जगह जहां से चांद नजर आए पर खड़े हो जाएं। फिर चंद्रमा का स्मरण करते हुए चांदी की प्लेट में सूखे छुहारे तथा कुछ मखाने रखकर शुद्ध घी के दीपक के साथ धूप एवं अगरबत्ती अर्पित करें। अब दूध से अर्घ्य प्रदान करें। अर्घ्य के बाद कोई सफेद प्रसाद तथा केसर मिश्रित साबूदाने की खीर अर्पित करें। चंद्रमा से आर्थिक संकट दूर कर समृद्धि प्रदान करने का निवेदन करें। बाद में प्रसाद और मखानों को बच्चों में बांट दें।फिर लगातार आने वाली प्रत्येक पूर्णिमा की रात चंद्रमा को दूध का अर्घ्य अवश्य दें। कुछ ही दिनों में आप महसूस करेंगे कि आर्थिक संकट दूर होकर समृद्धि निरंतर बढ़ रही है।

8. यदि आपको लगता है कि लाख प्रयास के बाद भी आपका व्यापार बढ़ नहीं रहा है तो होलिका दहन से एक दिन पहले फिटकरी के 6 टुकड़े अपनी दुकान / कार्यालय में छोड़ दें और अगले दिन उन्हें लेकर होलिका दहन के समय कपूर और किसी अनाज के साथ चुपचाप जलती हुई होलिका में डाल दें, आपके कारोबार को किसी की नज़र नहीं लगेगी, अगर नज़र लगी होगी तो उतर जाएगी, और कारोबार फलना फूलना शुरू हो जाएगा ।

9. होलिका दहन में घर के सभी सदस्यों को अवश्य ही शामिल होना चाहिए । होलिका दहन में चना, मटर, गेंहूँ बालियाँ या अलसी आदि डालते हुए अग्नि की तीन / सात परिक्रमा करें। इससे घर में शुभता आती है। आज कल स्वाइन फ्लू का कहर है अत: हर व्यक्ति होलिका में थोड़ा थोड़ा कपूर भी अवश्य ही डालें जिससे स्वाइन फ्लू के वायरस भी कम हो सके ।

10. पूर्णिमा को होली दहन के दिन रात्रि में चांदी के पात्र में कच्चा दूध डालकर पति पत्नी चन्द्रमा को अर्ध्य अवश्य ही दें, इससे पति-पत्नी के संबंधों में प्रगाढ़ता आती है।

11. होली की सुबह  बिल्वपत्र पर सफ़ेद चन्दन लगाएं और शिवलिंग पर अर्पित करे होली पर हनुमान जी को पञ्च लाल फुल चढाएं| फूल चढाने के बाद हनुमान चालीसा का जाप करे इन उपायों से अक्षय लक्ष्मी की प्राप्ति हो सकती है|

12. कहते है कि होली के दिन रात्रि के 12 बजे के बाद पीपल के नीचे शुद्ध घी का दीपक जलाना चाहिए एवं हाथ में सफेद तिल लेकर पीपल की सात परिक्रमा करके धीरे-धीरे इन तिलों को छोडते जाएं। इसके बाद बिना पीपल को छुए प्रणाम करके पीछे देखे बिना ही वापस घर आ जाएं।। ऐसा करने से शीघ्र ही मनोकामनाएँ पूर्ण होती है|

13. होलिका दहन के बाद रात में वहां से आग लाकर उससे घर में गोबर के कंडे जलाकर उसमें नारियल की गिरी और गेंहूँ की बालियाँ भून कर खानी चाहिए इससे धन यश और निरोगिता की प्राप्ति होती है|

14. होलिका दहन के बाद उसकी थोड़ी भस्म जरूर लाएं, उसका टीका किसी महत्वपूर्ण कार्य में जाते हुए पुरुष अपने मस्तक पर और स्त्री अपने गर्दन में लगाएं, कार्यों में सफलता मिलेगी और धन संपत्ति में भी वृद्धि होगी।

15. अगर तमाम कोशिशो के बाद भी धन बरकत नहीं रहती है तो होली के दिन हनुमानजी के किसी सिद्ध-प्राचीन मन्दिर में 7 बताशे, एक पान और एक पीला जनेऊ, अर्पित करें। तत्पश्चात इसे तीन मंगलवार लगातार हनुमान मंदिर में चढ़ाएं। आपके घर में धन का अनावश्यक व्यय रुक जायेगा, धन में बरकत होगी ।

16. होली से एक दिन पहले किसी ऐसे पेड़ के नीचे जाए जिस पर चमगादड़ लटकते हो फिर उस पेड़ की एक डाल को अपने घर में आने का निमंत्रण दे आएं। होलिका दहन वाले दिन सूर्योदय से पूर्व उस डाल को तोड़कर अपने घर में ले आए। रात को उस डाल का पूजन कर उसे अपनी तिजोरी अथवा अगले दिन से अपनी गद्दी के नीचे रखें। आपका कारोबार खूब चलने लगेगा।

17. जिस दिन होली जलनी हो उस दिन सुबह एक साबूत पान पर साबूत सुपारी एवं हल्दी की गांठ रखकर किसी भी मंदिर में शिवलिंग पर चढ़ाएं और भगवान शिव से योग्य जीवनसाथी के लिए प्रार्थना करें फिर प्रणाम करके वापस आ जाएँ पीछे मुड़कर ना देखें यह प्रयोग लगातार 7 दिन तक करें इससे अतिशीघ्र विवाह होने की सम्भावना बढ जाती है ।

18. होली में आपस में वैर भाव मिटा कर खुद पहल करके दुश्मनो से भी रंग खेलकर सभी से साफ मन से गले मिलना चाहिए । मान्यता है कि इस दिन पहल करके शत्रुता भुलाने से वर्ष भर आप के शत्रु आपसे पराजित होते रहेंगे ।

19. होली वाले दिन प्रात: एक एकाक्षी नारियल लेकर उस पर सिंदूर, धूप, दीप, नैवेद्य चढ़ा कर उसे लाल वस्त्र में बांधकर माता लक्ष्मी से अपने यहाँ पर वास करने की प्रार्थना करते हुए उस नारियल को अपने व्यवसाय स्थल पर रखें, व्यवसाय दिन दूनी रात चौगनी रफ़्तार से बढ़ेगा ।

20. होली पर रंग सभी व्यक्तियों को जरूर ही खेलना चाहिए, इससे घर परिवार में प्रेम, सौहार्द्य और सुख का वास होता है । होली पर सबसे पहले ईश्वर को और फिर घर के बड़े बुजुर्गों को रंग लगाकर उनसे आशीर्वाद लेकर ही रंग खेलना शुरू करना चाहिए ।

21. होली के दिन होलिका की राख ला कर उसकी स्याही बना कर लोहे की कील या सिलाई से एक साफ सफेद कागज पर अपना मुकदमा नम्बर और शत्रु का नाम लिखकर दोबारा जाकर होलिका में डाल दें और हाथ जोड़कर मन ही मन अपनी विजय के लिए प्रार्थना करें आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। ध्यान रहे यह क्रिया बिलकुल चुपचाप करें ।

22. होली वाले दिन प्रात: एक एकाक्षी नारियल लेकर उस पर सिंदूर, धूप, दीप, नैवेद्य चढ़ा कर उसे लाल वस्त्र में बांधकर माता लक्ष्मी से अपने यहाँ पर वास करने की प्रार्थना करते हुए उस नारियल को अपने व्यवसाय स्थल पर रखें, व्यवसाय दिन दूनी रात चौगनी रफ़्तार से बढ़ेगा ।

23. होली के दिन प्रातः से ही किसी भी ऐसे व्यक्ति से जिससे आपका मनमुटाव हों कोई भी वस्तु जैसे पान, इलायची, लौंग, मिठाई आदि न लें,। इस दिन यथासंभव अपना सर भी ढककर रखें ।

24. होली के दिन लोग दूसरों के अहित के लिए टोने टोटके बहुत करते है और इसके लिए सफेद खाद्य पदार्थों का प्रयोग ज्यादा किया जाता है इसीलिए होलिका दहन वाले दिन सफेद खाद्य पदार्थों का सेवन यथा सम्भव नहीं ही करना चाहिये 

Leave a Reply